Saturday, February 05, 2011

PYAAZ MANGA HAI TUMSE

SHER AGRAWAL

--------------------------------------------------------------------------------
[seattle-hindi] pyaaj - प्याज मांगा है तुम्हीं से

--------------------------------------------------------------------------------
Rahul Upadhyaya Fri, Feb 4, 2011 at 6:50 PM
To: seattle-hindi@yahoogroups.com


समाचार - देश प्याज से परेशान - से प्रेरित हो कर लिखी गई एक रचना:

प्याज मांगा है तुम्हीं से
राहुल उपाध्याय

प्याज मांगा है तुम्हीं से
न इंकार करो
पाँच दे दो ज़रा आज तो
न इंकार करो

कितनी हसीं है रात
दुल्हन बनी है रात
उबले हुए दाल-भात
प्याज जरा छीलो तो
सलाद तैयार करो
न इंकार करो

पहले भी इन्हें काटा
पहले भी तुम रोए
आज आँसू मगर
बहते हैं तो
बह जाने दो
इन्हें स्वीकार करो
न इंकार करो

कितनी बुरी ख़बर है
और सरकार बेख़बर है
तख़्ता पलटे अगर
तो तख़्ता पलट जाने दो
मोर्चा तैयार करो
न इंकार करो

सिएटल
4 फ़रवरी 2011

(शिवकुमार सरोज से क्षमायाचना सहित. इसे सुनने के लिए, यहाँ क्लिक करें)


A picture may be worth a thousand words. But mere words can inspire millions









__._,_.___
Reply to sender | Reply to group | Reply via web post | Start a New Topic
Messages in this topic (1)
Recent Activity:
Visit Your Group
Switch to: Text-Only, Daily Digest • Unsubscribe • Terms of Use.


__,_._,___


--------------------------------------------------------------------------------